शूर्पकर्णो तपप्राप्तो पाशहस्तो गणाधिप:। बुद्धिदाता भयत्राता सर्वदा शरणं मम।।